^ns[kuk gS t+ksj fdruk*

रामप्रसाद बिस्मिल के सीने में आजादी की आग जलती थी, तो एक कवि हृदय भी था। उनकी कविताओं व शायरी में एक ही रस था, आजादी का। उन्होंने अपने साथी क्रांतिकारियों के साथ मिलकर काकोरी कांड को अंजाम दिया था। जब उन्हें फांसी दी गई, तब भी उनके होंठों पर देशभक्ति गीतों के बोल ही थे। ‘देखना है ज़ोर कितना’ एलबम पं-रामप्रसाद बिस्मिल की कविताओं की संगीतबद्ध प्रस्तुति है।

 
 
 
 

ewY; % 60@& #i;s

xkuksa dh lwph

Ø-

xhr

xhrdkj

laxhrdkj

vof/k fe-

1.

ljQjks'kh dh reUuk vc gekjs fny es gS

jkeizlkn fcfLey

ekWfjl yktjl

05:12

2.

feV x;k tc feVus okyk

jkeizlkn fcfLey

rkilh ukxjkt

05:04

3.

bykgh [kSj oks gjne ubZ csnkn djrs gsS

jkeizlkn fcfLey

06:26

4.

cyk ls gedks yVdk,] vxj ljdkj Qkalh ls

jkeizlkn fcfLey

04:43

5.

ekfyd rsjh jt+k jgs vkSj rw gh rw jgs

jkeizlkn fcfLey

ekWfjl yktjl

05:46

6.

feV x;k tc feVus okyk

jkeizlkn fcfLey

05:32

7.

ge Hkh vkjke mBk ldrs Fks

jkeizlkn fcfLey

ekWfjl yktjl

09:43

8.

ljQjks'kh dh reUuk vc gekjs fny esa gS

jkeizlkn fcfLey

05:46

9.

njksa nhokj is gljr ;s ut+j djrs gS

jkeizlkn fcfLey

02:04

 
 
 

Powered by: Bit-7 Informatics