^tu xjts*

अंगरेजी राज के दमनात्मक दौर में हिन्दी कवियों ने समय-समय पर मोर्चे लिये और समाज को नैतिक शक्ति प्रदान करने की कोशिश की थी। राष्ट्रीय वंदना के ऐसे ही विविध स्वरों को ‘जन गरजे’ एलबम के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने का प्रयास किया गया है।

 
 
 
 

ewY; % 60@& #i;s

xkuksa dh lwph

Ø-

xhr

xhrdkj

laxhrdkj

vof/k fe-

1.

?ku xjts] tu xjts

dsnkjukFk vxzoky

04:24

2.

vYykg uke okyks lqu yks dFkk gekjh

izhre

07:04

3.

jax esa Hkax Mkyk

vKkr

ekWfjl yktjl

06:27

4.

jxksa esa [kwu mcyrk gS gekjk tks’k dgrk gS

';keukjk;.k ik.Ms;

05:22

5.

tyk vfLFk;ka viuh lkjh

jke/kkjh flag fnudj

06:36

6.

हे घनश्या‍म आते हो  

eqdqV/kj ik.Ms;

08:54

7.

oanuk ds bu Lojksa esa ,d Loj

ia- lksguyky f}osnh

05:37

8.

u gkFk ,d 'kL= gks

lksguyky f}osnh

05:03

9.

t;] t;fr] t;fr izkphu fgUn

Jh/kj ikBd

ekWfjl yktjl

06:52

10.

NksM+ pys------- NksM+ pys ys rsjh dqfV;k

ia- ek[kuyky prqosZnh

04:57

11.

dfo dqN ,slh rku lqukvks

ckyd`".k 'kekZ uohu

04:45

 
 
 

Powered by: Bit-7 Informatics