^dksbZ jat ft+Unk esa*

1857 का मुक्ति संग्राम आजादी का पहला शंखनाद था। इस दौरान अनेक रचनाकारों, क्रांतिकारियों ने कविताओं, गीतों को अपने हथियारों के जखीरे में शामिल किया। मुक्ति संघर्ष में शामिल देशभक्तो ने अपनी कविताओं के माध्यम से अवाम को प्रेरणा दी। हिंदी-उर्दू के श्रेष्ठ रचनाकारों ने मुक्ति अभियान को दिशा देने की कोशिश की। इस संग्राम को जिन तरानों ने इतनी आग दी, उन्हें ‘कोई रंज ज़िन्दा में’ एलबम में प्रस्तुत किया गया है।

 
 
 
 

ewY; % 60@& #i;s

xkuksa dh lwph

Ø-

xhr

xhrdkj

laxhrdkj

vof/k fe-

1.

dksbZ jat ft+nk esa ,slk ugh

06:09

2.

bykgh rw bykgh gS

cgknqj 'kkg tQj

06:53

3.

uk lquk tk,xk ge ls ;g Qlkuk

[oktk vYrkQ gqlSu

12:22

4.

gks x, ohjku nsgyh & vks & n;kjs & y[kuÅ

gdhe vkxktku

ekWfjl yktjl

05:34

5.

yxrk ugh gS th esjk mtM+s n;kj esa

cgknqj 'kkg tQj

06:40

6.

vo/k es jk.kk Hk;ks ejnkuk

vo/kh yksd xhr

06:06

7.

ewan eq[k nf.Mu dks

vKkr

प्रकाश शुजालपुरकर

03:15

8.

fop vkscjh ds eSnuoka eka

Hkkxw ukbZ

ekWfjl yktjl

07:50

9.

D;ksadj dVsaxs ;kjc

अशरफ अली खां

03:50

10.

tSls e`xjkt xtjktu dS >q.Mu

ckcw dqaojflag

ekWfjl yktjl

03:50

11.

gj ,d rkj lkal dk ctk, py

vKkr

ekWfjl yktjl

05:05

12.

fyf[k fyf[k ifr;k ds Hkstyu dq¡ojflag

Hkkstiqjh

05:14

 
 
 

Powered by: Bit-7 Informatics