^gS vc rks dqN lq[ku*

(महाकवि नज़ीर अकबराबादी की कवितायें)

 

हिन्दी-उर्दू अदब के अ‌ज़ीम शायर नज़ीर अकबराबादी की दूरदशिँता ही थी कि अंगरेजों के भारतीय धरती पर पांव रखते ही उन्होंने यहां होने वाली तबाही अपनी शायरी में कह दिया। उनकी रचनाओं को एलबम ‘है अब तो कुछ सुखन’ में नए साज व आवाज के साथ पेश किया गया है।

 
 
 
 

ewY; % 60@& #i;s

xkuksa dh lwph

Ø-

xhr

xhrdkj

laxhrdkj

vof/k fe-

1.

gS vc rks dqN lq[ku esjs dkjksckj can

ut+hj vdcjkcknh

22:53

2.

dwd djs rks tx gals ¼nksgk½

ut+hj vdcjkcknh

03:29

3.

nqfu;k esa ckn'kkg gS lks oks Hkh vkneh

ut+hj vdcjkcknh

09:30

4.

usg uxj dh jhr gS ¼nksgk½

ut+hj vdcjkcknh

03:35

5.

lc [kwfc;ka cuh gS ;s vkne ds okLrs

ut+hj vdcjkcknh

06:56

 
 

Powered by: Bit-7 Informatics